Lockdown Update : 15 June के बाद क्या फिर लगने वाला है Lockdown ? | Off The Record

0
313

नमस्कार मैं हूं पंकज झा एक चर्चा फिर से तेज हो गई है कि क्या lockdown फिर से आने वाला है लोग फोन कर एक दूसरे से पूछने लगे हैं कि क्या 15 जून से लॉकडॉन आ रहा है कम से कम दिल्ली और मुंबई में तो हर तरफ लोग ऐसे ही बातें कर रहे हैं आप जानते ही हैं कि दोनों बड़े शहरों में हालात खराब हैं कोरोनावायरस की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है अस्पतालों में इलाज के लिए मारामारी मची कोई गली मोहल्ला यह सोसाइटी नहीं बचा जहां कोरोनावायरस ना लोग डरे हुए हैं पता नहीं कब किसका नंबर आ जाए अनलॉक वन में बाजार से लेकर सब कुछ खुल गया जबकि कोरोना संक्रमण और बढ़ गया है दिल्ली बेहाल है और मुंबई वोहान से आगे निकल चुका है चीन के वुहान शहर से ही कोरोनावायरस दुनियाभर में फैला

यह भी पढ़ें Delhi Violence :Police की Chargesheet में Kapil Mishra के भड़काऊ भाषण…

हालात ऐसे ही रहे हो खतरा बना रहा तो मुंबई में लॉकडाउन फिर लग सकता है ऐसा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा यह बात उन्होंने मराठी में कहीं लगातार समीक्षा करने के बाद ठाकरे को लगता है कि लॉकडाउन के बिना काम नहीं चलने वाला है एक ठीक करने के लिए लॉकडाउन तो हटा दिया गया लेकिन हालात और खराब होने लगे जबकि मुंबई में शॉपिंग मॉल और मंदिर अभी नहीं खोले गए हैं तब जाकर यह हालात भारत में सबसे अधिक वापी महाराष्ट्र में हुई है दूसरे नंबर पर गुजरात है और तीसरे नंबर पर दिल्ली मुंबई में हालात आउट ऑफ कंट्रोल है यहां टैक्स रेट साढे 3% के करीब है महाराष्ट्र सरकार के कुछ मंत्रियों से मेरी बातचीत की सबका एक ही तरह का कहना है कि लौंडा मुंबई के लिए जरूरत बनती जा रही है आखिरी फैसला सीएम उद्धव ठाकरे को ही लेना अपना मन बनाने लगे केंद्र सरकार ने जो गाइडलाइन जारी किया है उसके मुताबिक कोई भी राज्य सरकार उस में ढील नहीं

[adsforwp id=”1385″]

लेकिन नियम को और कड़ा या शक करने का अधिकार किसके पास है इस लिहाज से ठाकरे सरकार एक बार फिर मुंबई में लॉकडाउन कर सकती अभी लॉन्ग कितने दिनों का होगा दो हफ्तों का होगा 1 महीने का होगा उसका स्वरूप क्या है इस पर चर्चा बाद में हो सकती है जब यह तैयारी होगी कि लोटन होना है या नहीं होना है लेकिन महाराज सरकार के मन में कुछ तो चल रहा है लोटन लागू करने को लेकर अब रही बात दिल्ली की तो यहां भी हाल बहुत खराब है यहां कोरोनावायरस हजार के करीब हो गई है जबकि मरने वालों की संख्या 1000 तक पहुंच गई दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उद्धव ठाकरे की तरह ही लव टोन लगाने की बात साफ-साफ तो नहीं की है लेकिन उनका इशारा साफ-साफ समझ में आने लगा है उनका भी मानना है कि हालात दिल्ली में नाजुक है दिल्ली सरकार के आंकड़े ऐसा ही बताते हैं 30 जून तक एक लाख केस हो जाएंगे 15 जुलाई तक सवा दो लाख मामले हो सकते हैं जिस तेजी से मरीजों की

यह भी पढ़ें फर्जी ख़बर फ़ैलाकर फंसे पत्रकार दीपक चौरसिया, जारी हुआ कानूनी नोटिस

क्या पढ़ रही है उसके हिसाब से 31 जुलाई तक 532000 के सो जाएंगे फिर से एक बार की बात को 5 लाख 32 हजार के सो जाएंगे इसका मतलब यह हुआ कि 15 जुलाई तक 65000 और 21 जुलाई तक डेढ़ लाख पेट की जरूरत पड़ सकती है हालात यह है कि कुराना के मरीजों के लिए दिल्ली में अभी सिर्फ छे हजार बेड ही है अब सोचिए क्या हालात होंगे अगर पूर्णा का संक्रमण ऐसे ही बढ़ता रहा है जैसा आज के हालात हैं बेड की तो छोड़िए टेस्ट के लिए हाहाकार मच जाएगा अभी वैसे हालात अभी से अस्पतालों में बैठकर होना शुरू हो गया लो एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल के चक्कर लगाने को मजबूर है एसिंप्टोमेटिक लोगों का तो टेस्ट ही नहीं हो रहा है जिनकी पुराना बीमारी के लक्षण हैं उनका टेस्ट भी बड़ी मुश्किल से हो पाता है सीएम अरविंद केजरीवाल कह चुके हैं कि दिल्ली का दम फूलने लगा ऐसे में अब क्या किया जाए लोटन लगा दिया जाए केजरीवाल ने तो भी कुछ भी

[adsforwp id=”1385″]

खुलकर नहीं बोला है लेकिन उनके कई करीबी नेता ऐसा ही चाहते हैं उनका मानना है कि कम से कम 14 दिन का लॉक डाउन हो कुछ केस कम होंगे यह संक्रमण का चयन थोड़ा टूटेगा अगर ऐसा हुआ भी से दो बार हफ्तों के लिए भी बढ़ाया जा सकता है केजरीवाल सरकार के मंत्री बताते हैं कि लॉक डाउन करने से शायद संक्रमण का रेट कुछ कम हो वैसे आपको बता दें कि देश भर में मोदी के लॉक डाउन के ऐलान से पहले ही केजरीवाल ने दिल्ली में ऐसा कर दिया था जब दिल्ली में संसद की बैठक चल रही थी तो क्या केजरीवाल फिर एक बार ऐसी ही पहल करेंगे चाहे जो भी हो इन दिनों लाती है कि सभी लोग एक ही बात कर रहे हैं दिल्ली मुंबई में लोक डॉन आ रहा है क्या कहते हैं कि बिना आग के धुआं नहीं होती उद्धव ठाकरे नहीं तो आग लगाई है इस लोक डाउन लागू करने को लेकर अब आगे देखिए होता है क्या अब एक सबसे जरूरी बात की लॉक डाउन लागू किया जाए या नहीं किया जाए इस पर एक्सपोर्ट की क्या राय मेरा मानना यह है यानी एक्सपोर्ट का यह कहना है जो खासतौर

मेडिकल सेवा में जुड़े हुए हैं अगर आप देखें एम्स के डॉक्टर गुलेरिया ने पहले ही कहा था कि जून-जुलाई के आखिर में सबसे बड़ा स्पाइक होगा यानी करो ना मेरे झोंके संख्या अचानक बढ़ जाएगी वह खतरा अब भी बना हुआ है सफदरजंग हॉस्पिटल जो कि केंद्र सरकार के तहत आता है उसके जो मेडिकल सुपरिटेंडेंट है बलविंदर सिंह उन्होंने भी साफ साफ कहा है कि लॉकडाउन लगाना बहुत जरूरी हो गया है जो हालात हैं दिल्ली में वह साफ कह रहे हैं लॉक डाउन का मतलब कंप्लीट लौट आओ जैसा लॉकडाउन में हुआ था कि बिल्कुल कोई मूवमेंट नहीं थी अब तो यह है कि सब बिल्कुल खुलासा है वह कह रहे हैं कि लोटन बिल्कुल लव समवन की तरह होना चाहिए तब जाकर के दिल्ली में हालात बेहतर हो सकते हैं तो देखिए सरकार के लोगों का एक स्पोर्ट्स का सबका एक तरीके से यही मानना है कम से कम दिल्ली और मुंबई को लेकर कि लॉकडाउन बेहद जरूरी है और इसी बात पर चर्चा दोनों शहरों में और उससे जुड़े हुए लोगों के बीच में शुरू हो गई है कि क्या लॉकडाउन आने वाला है लोग तारीख भी बता

मैं लगे हैं 15 जून से कोई कह रहा है कि 2 हफ्तों के लिए होगा कोई कह रहा कि महीने भर के लिए कोई 40 दिन के लिए लेकिन वाकई एक बात तो जरूर है कि दोनों बड़े शहरों या ने दिल्ली और मुंबई की हालात बहुत खराब टीवी वीडियो रखे आगे

यह भी पढ़ें गोदी मीडिया के ज़हर का असर ,इंदौर में मुस्लिम समुदाय के…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here