Dirilis Ertugrul se Kyu Dar Rahi hai Duniya | Tayyip Erdogan Turkey Hindi/Urdu

0
182

अगर आपने भी एरूतगुरुल गाजी सीरियल के बारे में सुना है तो इस पोस्ट को शेयर और लाइक जरुर कीजिए दोस्तों आजकल पूरी दुनिया में तुर्की का एक सीरियल बड़ी तेजी के साथ मशहूर हो रहा है जिसे रजब तैयब ardugan ने तैयार करवाया है और यह सीरियल एर्तगुरुल गाजी का है जो कि एक सच्ची कहानी पर बनाया गया है तो कौन था एर्तगुरुल गाजी और सऊदी अरब अमेरिका इस्राइल इस सीरियल से क्यों डर रहे हैं और इस पर उन्होंने क्यों बैन लगाया है इस पोस्ट में हम आपको बताएं गे इसे आखिर तक जरूर पढें दर असल बात तेरविं 13 सदी की है जब सुलेमान शाह के बेटे एर्तगुरुल गाजी जो के काई काबिले से ताल्लुक रखते थे इस कबीले में 400 से 500 खानदान शामिल थे और एर्तगुरुल गाजी एक बेहतरीन जंबू जूते जिसने कई इलाके फतेह किए और इन पर राज किया इसके बाद उनके बेटे जिनका नाम उस्मान था वह बहुत आदिल और पक्के मुसलमान थे उस्मान ने खिलाफत उस्मानिया

नीचे जाकर वीडियो देखें अगर पढ़ना पसंद नहीं तो

यह भी पढ़ें लॉकडाउन में मस्जिदों में नमाज अदा करने की नई गाइडलाइन जारी…

उस्मानिया एर्तगुरुल गाजी के सपने की ताबीर ख्वाब में देखा था कि चार पहाड़ और चार दरिया उनके कब्जे में है यह चारों दरिया उनकी सल्तनत में आए फरात नील और तेंदुए चार दरिया थे और चार पहाड़ कोहितूर कोहेकाफ कोहे अटक और कॊहे बिलकाफ के तमाम उन की सल्तनत में आए 625 साल उन्होंने हुकूमत की इसके बाद पहली जंगे अजीम आई एर्तगुरुल के छोटे बेटे उस्मान ने एर्तगुरुल गाजी के इंतकाल के बाद उनकी जगह ली जो कि अपने बाप की तरह ही पक्के मुसलमान थे और आदिल भी उस्मान ने खिलाफत को ज़िंदा करने का फैसला किया और खिलाफ उस्मानिया की बुनियाद रखी खिलाफत उस्मानिया के बाद इनमें अयशी अगई और खराबी की शुवात हो गई इस वक्त खाने कबा और मदीना मुनव्वरा का कंट्रोल भी इन्हीं के पास था और तकरीबन 40 मालिक पर खिलाफत उस्मानिया का कंट्रोल था लेकिन इसके बाद यह कमजोर पढ़ गई

उस वक्त इनका सुल्तान वही 2 दिन था जिसे जला वतन होना पड़ा था पहली जंगे अज़ीम में दुनिया दो हिस्सों में तय हो गई थी उनमें से कुछ मोमालिक बरतानिया के साथ थे न जिसमें अमेरिका आयरलैंड फ्रांस रूस इटली और कई मुमालिक शामिल थे जबकि दूसरी तरफ तुर्क थे इनका साथ जर्मनी वगैरह दे रहे थे और वह अपनी खिलाफत बचाने के लिए जोर लगा रहे थे इसमें पहले 3 साल तक खिलाफत उस्मानिया वालों को फतेह मिलती रही लेकिन फिर यह माली तौर पर जब कमजोर हुए तो यह जंग हारने लगे और कमजोर पड़ने लगे इसके बाद एक महादा हुआ और यह जंग बंदी का फायदा था और खिलाफत उस्मानिया का खात्मा इसी की वजह से हुआ इस वक्त 40 मुमालिक खिलाफत उस्मानिया में शामिल थे और वह अलग हो गए जिसमें सऊदी अरब इराक श्याम मिश्र वगैरा भी शामिल थे इस तरह तुर्क से मक्का और मदीना का कंट्रोल भी

निकल गया मगर जब मक्का मदीना में कोई भी तब्दीली रोमिना होती है तो तुर्क एक एक पत्थर को अपने यहां ले जाते हैं और स्तमबोल में ले जाकर रखते हैं आपके तुर्की के लोग और उनकी कोम यह याद रखें कि तुर्की के पास यह जिम्मेदारी हुआ करती थी और वह यह चाहते हैं कि यह मेजबानी उन्हें फिर से मिले अब हम बात करते हैं महोदय की जो कि जेल के बंदी का महत्व था और यह लोग जेल में हुआ था जो कि न्यूजीलैंड का एक इलाका है इस महायज्ञ में यह पाया कि खिलाफत उस्मानिया खत्म कर दी जाएगी जाना चीन को हटा दिया जाएगा तमाशा से सख्त कर लिए जाएंगे तुर्कों के पास बहुत ज्यादा साथी थे जो भी 3:00 बजे आजम की हुकूमत उनके पास हुआ करती थी इसीलिए बहुत ज्यादा पैसा उनके पास था और यह कहा गया कि तुर्की में इस्लामिक ऑन ही नहीं होंगे यहां तक कि शुरुआत में यह भी कहा गया कि वहां अरबी में अजान नहीं दी जाएगी और यह तय पाया कि आप खिलाफत और शरीयत की बात

यह भी पढ़ें युपी गोरखपुर | मस्जिद मे तोड़फोड़ | कुरआन पाक को फाड़ा

नहीं करेंगे तुर्की पर और कई खौफनाक पाबंदी लगा दी गई जैसे वह अपने मुल्क में मांस निर्यात नहीं निकाल सकते यानी कि तेल ज्ञात वगैरह कुछ भी नहीं और वह ड्रिल भी नहीं कर सकते यह तो बड़ा और बहुत बड़ा मसला था स्वस्थ और उनके पास बहुत बड़ा जखीरा था जो के अवमूल्यन कुस्तुनतुनिया में है यहां कई जहाज गुजरते हैं जो कि दुनिया की तिजारत की रीढ़ की हड्डी है इससे भी कहा गया है कि पूर्व इन से किराया और टैक्स वसूल नहीं कर सकते यह मैदान फतेह का था और इसकी मुद्दत 100 साल की थी यह 10 जुलाई 1930 में हुआ था तो 2023 में तुर्की किस महादेश से आजाद हो जाएगा तो आग दादपुर की बहुत कुछ हासिल करना चाहता है जिससे दुनिया फायदा है और दादी की सीरियल भी इसी मकसद से बनाई गई है किंतु पुराना वकार हासिल करना चाहते हैं और वह अपने पुराने किरदार को याद करें और अपने वकार को याद करें इसीलिए रजब तैयब अर्थ

यह भी पढ़ें बिहार के DGP ने सारे SP को दिए आदेश, हिन्दू-मुस्लिम में…

फिर से उर्दू को और मुसलमानों को यह याद दिलाने के लिए यह सीरियल बनाया है अमेरिका और यूरोप और तमाम इस्लामी मालिक जहां बादशाहट है वह कभी नहीं चाहेंगे कि लोग यह ड्रामा देखें और किरदारों के बारे में जाने और ख्वाहिश पाले की मुसलमान इकट्ठे हो खिलाफ उस्मानिया खत्म हो रही थी तो पूरी दुनिया में किसी मुस्लिम मुल्क में आवाज नहीं उठाई थी क्योंकि उनको अपने इलाकों में बाढ़ राहत मिल रही थी लेकिन सिर्फ एक जगह से आवाज उठाई गई और वह है हिंदुस्तान हिंदुस्तान के कई लोग तो रुको का साथ देने वहां पर पहुंचे थे और उनकी कभी अभी वहां पर मौजूद है उस वक्त पाकिस्तान भी हिंदुस्तान में ही शामिल था यही वजह है हिंदुस्तान और पाकिस्तान से शुल्क ज्यादा प्यार करते हैं और साल खत्म होने के बाद तुर्की अपना हक मांगने की कोशिश करेंगे और इसकी तैयारी भी वह शुरू कर चुके हैं इससे अमरीका इसराइल और सऊदी अरब दिखाओ जरा है इसी बीच आर्मीवर्म

यह भी पढ़ें मदीना शरीफ में हुआ अल्लाह का करिश्मा | रोज़ा-ए-रसूल के सामने…

अभी आ चुकी है जिससे दुनिया में बहुत कुछ तब्दीलियां अरुणिमा हो सकती है तो दोस्तों खिलाफ मान्य और अर्थ के बारे में आपका क्या मानना है अपनी राय जरूर दें और इस वीडियो को लाइक जरुर करें अपने दोस्तों के साथ फेसबुक पर व्हाट्सएप पर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here